Educalingo cookies are used to personalize ads and get web traffic statistics. We also share information about the use of the site with our social media, advertising and analytics partners.
Got it
Search

Meaning of "जठराग्नि" in the Hindi dictionary

Dictionary
DICTIONARY
section

PRONUNCIATION OF जठराग्नि IN HINDI

जठराग्नि  [jatharagni] play
facebooktwitterpinterestwhatsapp

WHAT DOES जठराग्नि MEAN IN HINDI?

Click to see the original definition of «जठराग्नि» in the Hindi dictionary.
Click to see the automatic translation of the definition in English.

Definition of जठराग्नि in the Hindi dictionary

Gastrointestinal tract Female 0 [सं 0] Abdomen Food is digested. Due to lack of special finance, he / she got four types of gastric infection has gone; Nandagny, toxicity, acute, and concussion जठराग्नि संज्ञा स्त्री० [सं०] पेट की वह गरमी या अग्नि जिसमें अन्न पचता है । विशेष—वित्त की कमी वे /?/से जठराग्नि चार प्रकार की मानी गई है; नंदाग्नि, विषमाग्नि, तीक्ष्अग्नि, और समाग्नि ।

Click to see the original definition of «जठराग्नि» in the Hindi dictionary.
Click to see the automatic translation of the definition in English.

HINDI WORDS THAT RHYME WITH जठराग्नि


HINDI WORDS THAT BEGIN LIKE जठराग्नि

टुली
ट्टा
ट्टी
ट्टू
जठर
जठरगद
जठरज्वाला
जठरनुत्
जठरा
जठरागि
जठरानल
जठरामय
जठ
जठागनि
जठारी
जठेरा
जठोड़ी
डक्रिय
डजगत

HINDI WORDS THAT END LIKE जठराग्नि

दीप्ताग्नि
द्वयाग्नि
धूमाग्नि
नष्टाग्नि
पंचाग्नि
पचनाग्नि
पलाग्नि
पूर्वाग्नि
बड़वाग्नि
बनाग्नि
भस्माग्नि
मखाग्नि
मुखाग्नि
राजाग्नि
वडवाग्नि
वनाग्नि
वाड़वाग्नि
विषमाग्नि
विषाग्नि
शक्राग्नि

Synonyms and antonyms of जठराग्नि in the Hindi dictionary of synonyms

SYNONYMS

Translation of «जठराग्नि» into 25 languages

TRANSLATOR
online translator

TRANSLATION OF जठराग्नि

Find out the translation of जठराग्नि to 25 languages with our Hindi multilingual translator.
The translations of जठराग्नि from Hindi to other languages presented in this section have been obtained through automatic statistical translation; where the essential translation unit is the word «जठराग्नि» in Hindi.

Translator Hindi - Chinese

调味汁
1,325 millions of speakers

Translator Hindi - Spanish

salsas
570 millions of speakers

Translator Hindi - English

Sauces
510 millions of speakers

Hindi

जठराग्नि
380 millions of speakers
ar

Translator Hindi - Arabic

الصلصات
280 millions of speakers

Translator Hindi - Russian

Соусы
278 millions of speakers

Translator Hindi - Portuguese

molhos
270 millions of speakers

Translator Hindi - Bengali

sauces
260 millions of speakers

Translator Hindi - French

sauces
220 millions of speakers

Translator Hindi - Malay

sos
190 millions of speakers

Translator Hindi - German

Sauces
180 millions of speakers

Translator Hindi - Japanese

ソース
130 millions of speakers

Translator Hindi - Korean

소스
85 millions of speakers

Translator Hindi - Javanese

sauces
85 millions of speakers
vi

Translator Hindi - Vietnamese

nước sốt
80 millions of speakers

Translator Hindi - Tamil

சுவையூட்டிகள்
75 millions of speakers

Translator Hindi - Marathi

sauces
75 millions of speakers

Translator Hindi - Turkish

soslar
70 millions of speakers

Translator Hindi - Italian

salse
65 millions of speakers

Translator Hindi - Polish

sosy
50 millions of speakers

Translator Hindi - Ukrainian

соуси
40 millions of speakers

Translator Hindi - Romanian

sosuri
30 millions of speakers
el

Translator Hindi - Greek

σάλτσες
15 millions of speakers
af

Translator Hindi - Afrikaans

souse
14 millions of speakers
sv

Translator Hindi - Swedish

såser
10 millions of speakers
no

Translator Hindi - Norwegian

sauser
5 millions of speakers

Trends of use of जठराग्नि

TRENDS

TENDENCIES OF USE OF THE TERM «जठराग्नि»

0
100%
The map shown above gives the frequency of use of the term «जठराग्नि» in the different countries.

Examples of use in the Hindi literature, quotes and news about जठराग्नि

EXAMPLES

10 HINDI BOOKS RELATING TO «जठराग्नि»

Discover the use of जठराग्नि in the following bibliographical selection. Books relating to जठराग्नि and brief extracts from same to provide context of its use in Hindi literature.
1
Bhāratīya saṃskr̥ti aura Hindī-pradeśa - Volume 1 - Page 506
प्राणवायु की सहायता से उसकी सहचर जठराग्नि का समागम हुआ करता है । उस जठराग्नि का नाम ऊष्मा है । यही देहधारियों के भुक्त अन्न आदि को परिपाक करती है । जठराग्नि के वेग से बहने वाला ...
Rambilas Sharma, 1999
2
Āyurvedika cikitsā sāra: prākr̥tika rūpa se uttama ... - Page 25
शरीर में अनेक प्रकार की अग्नियां है, इनमें जठराग्नि का महत्व सबसे अधिक है । पाचन किया में इसका विशेष सहयोग रहता है । भोजन दांतों से चबाने के बाद कोमल होकर आमाशय में पहुंचता है ।
Śaśibhūshaṇa (Āyurvedācārya.), 2000
3
Brahma sūtra: - Volume 1
मकव-पथ साक्षाशयविरोधे जैमिनि: है, २८ 1: साक्षात साक्षात् ( जठराग्नि के सम्वन्ध बिना ) [ ईशे-र उपास्य होते में ] अपि भी अविल [ शब्द का ] अविरोध है [ ऐसा ] जैमिनि: जैमिनि [ मानता है ] है ...
Bādarāyaṇa, ‎Shankar Lal Kaushalya, ‎Brahmachari Vishnu, 1963
4
Paniniya Shiksha
करता है, ( आइ-पूर्वक हत धातु से लद लकार प्र० पु० एक व० ) स द्वा-य वहीं ( जठराग्नि ), मारुषा की प्राणवायु को, प्रेरयति=८ प्रेरित करता है : हिन्दी-य-आत्मा बुद्धि के द्वरा पदार्थों को ...
Damodar Mehto, 2005
5
Peṭa ke rogoṃ kī prākr̥tika cikitsā - Page 111
धीरे८धीरे जठराग्नि मंद होकर अजीर्ण की शिकायत बढ़ जाती है । जठराग्नि चार प्रकार की होती है । मोजा को समान रूप से सुव्यवस्थित एवं शान्ति से पचाने वाली अग्नि 'सम जठराग्नि', कभी ...
Nāgendra Kumāra Nīraja, 2001
6
Vedavyākhyā-grantha - Volume 3
जाबअन्ति नाम उदर-अविन अथवा जठराग्नि का है । काय के दो प्रसिध्द अर्थ हैं-अमृत और वीर्य [सचमुच वीर्य अमृत है । वीर्य के वर्धन और रक्षण से मनुष्य मृत [मृत्यु] को परे हटाता हुआ दीर्घ, ...
Swami Vidyānanda
7
Áyurveda-paricaya - Page 43
यह जठराग्नि अन्न का पाचन तो प्रधानरूपेण करती ही है, अन्य अग्नियोंके1 संरक्षण भी यही करतीहे । अत: जठराग्नि की दीप्ति से अन्य बन्दियों की दीप्ति एर्वेजठराग्नि की क्षीणता से ...
Banavārīlālala Gaura, 1983
8
Vedavyākhyā-grantha: pt. 1. Yajurveda-vyākhyā, ...
जो जठराग्नि को प्रदीप्त रखते हैं, उनकी पाचनशक्ति बहुत उत्तम रहती है: पाचनशक्ति के उत्तम रहते से शरीर में शुद्ध पवित्र वीर्य पर्याप्त मात्रा में बनता है [ वीर्य के कणतीनसौ वर्षों तक ...
Vidyānanda (Swami), 1977
9
Aṣṭāṅgasaṇgrahaḥ - Volume 1
दोषों का जठराग्नि एवं कोष्ठ पर प्रभाव मैं को च तेर्भवेद्विषमंत्रीअगोमन्याचानि- सभी सम: है कोक: चूरी मृदु-यों मध्य: स्थार्च: औरपि है ।२६ है है समास: दोषों का जनान पर इस प्रकार ...
Vāgbhaṭa, ‎Lalacandra Vaidya, 1965
10
Nitivakyamrtam
अय-जो जठराग्नि से अधिक हो, अहितकर, अपनी प्रकृति के प्रतिकूल, विना परीक्षा किया हुआ, भलीभांति परिपाक न होनेवाला, रसखान और भूयख का समय उत-लंघन करके किया हुआ ऐता भोजन नहीं करना ...
10th century Somadeva Suri, 1976

10 NEWS ITEMS WHICH INCLUDE THE TERM «जठराग्नि»

Find out what the national and international press are talking about and how the term जठराग्नि is used in the context of the following news items.
1
भोजन सदैव जमीन पर बैठकर करेंे
शारीरिक, मानसिक व आध्यात्मिक ऊर्जा का स्तर बढ़ाने के लिए जमीन पर बैठकर भोजन करें। इससे भोजन पचाने में जठराग्नि समुचित कार्य करती है। भोजन शांत भाव व एकाग्रता से करें। पढ़ते या टीवी-मोबाइल देखते हुए नहीं। विपरीत परिस्थितियों का ... «दैनिक भास्कर, Nov 15»
2
कई रोगों में लाभदायक है अजमोदा
अग्निदीपनार्थ- पिप्पली, अजमोदा आदि दीपनीय महाकषाय की औषधियों से बनाए क्वाथ या चूर्ण का सेवन करने से जठराग्नि का दीपन होता है. गुल्म- शुण्ठी, मरिच, पिप्पली तथा अजमोदा आदि द्रव्यों से बनाए हिग्ंवाष्टक चूर्ण का (2-4 ग्राम) सेवन करने से ... «Chauthi Duniya, Oct 15»
3
दुबलापन दूर करने के 5 कारगर तरीके
दुबलेपन के रोगी को जठराग्नि का ध्यान रखते हुए दूध, घी आदि का अधिक मात्रा में सेवन करना चाहिए। इस समस्या से परेशान व्यक्ति को चिंता, मैथुन और व्यायाम को पूरी तरह त्याग देना चाहिए। 2. भरपूर नींद लेनी चाहिए। गेहूं, जौ की चपाती, मूंग या अरहर ... «रिलीजन भास्कर, Oct 15»
4
शरद पूर्णिमा : क्यों है यह दिन खास
शरद पूर्णिमा की रात में चन्द्रमा पृथ्वी के सबसे निकट होता है। वह अपनी 16 कलाओं से परिपूर्ण रहता है। इस रात्रि चन्द्रमा का ओज सबसे तेजवान एवं ऊर्जावान होता है, इसके साथ ही शीत ऋतु का प्रारंभ होता है। शीत ऋतु में जठराग्नि तेज हो जाती है और ... «Webdunia Hindi, Oct 15»
5
बढ़ती उम्र में कैसे रहें स्वस्थ और मस्त
जठराग्नि कम होने से भोजन कम मात्रा में खाया जाता है। धातुक्षय के कारण वात संबंधी व्याधियां होने की आशंका बढ़ जाती है। दूसरे शब्दों में वृद्धावस्था में व्यक्ति की शारीरिक व मानसिक क्षमता कम हो जाती है। health. चिकित्सा भी सुगम नहीं. «Rajasthan Patrika, Oct 15»
6
क्या आप जानते हैं, अग्नि को देवता क्यों माना …
व्यावहारिक नजरिए से मानव जीवन से जुड़े अनेक कार्य अग्रि की मौजूदगी के बिना शुभ नहीं माने जाते। शास्त्रों में इंसानी जिंदगी में अग्रि की अहमियत को ही बताते हुए अग्रि के अनेक रूप बताए गए हैं। जानते हैं अग्रि के ऐसे ही रूप –. – जठराग्नि : यह ... «viratpost, Oct 15»
7
खाना खाने के तुरंत बाद पानी न पिए
आयुर्वेद के मुताबिक खाने के बाद पानी पीना हानिकारक होता है। आयुर्वेद के अनुसार भोजन के बाद पानी पीना जहर के समान है। पानी तुरंत पीने से उसका असर पाचन क्रिया पर पड़ता है। हम जो भोजन करते है वह नाभि के बाये हिस्से में स्थित जठराग्नि में ... «viratpost, Sep 15»
8
सावन : परंपराओं में तो पहले से मौजूद है विज्ञान
आयुर्वेद- जठराग्नि अर्थात पेट की पाचन क्रिया को दुरुस्त करने के लिए हल्का-सुपाच्य भोजन करें। लंघन (खाली पेट रहना) करके विकारों को शांत करें। धर्म- सही समय पर व्रत-उपवास करने से लंघन होता है और शरीर को अंदर जमा रसायन और हर तरह की गंदगी को ... «Nai Dunia, Aug 15»
9
खाने के तुरंत बाद पानी पीने से होती हैं 103 तरह की …
खाना खाने के बाद पानी पीने से जठराग्नि समाप्त हो जाती है. जठराग्नि अमाशय की वो ऊर्जा है जो हमारे खाए हुए खाने को पचाने का काम करती है. ऐसे में अगर आपने खाने के तुरंत बाद पानी पी लिया तो से ऊर्जा समाप्त हो जाती है और भोजन पच नहीं पाता ... «आज तक, Jul 15»
10
आप बहुत दुबले हैं तो इसे जरूर पढ़ें (सरल आयुर्वेदिक …
दुबलेपन के कारण : अग्निमांद्य या जठराग्नि का मंद होना ही अतिकृशता का प्रमुख कारण है। अग्नि के मंद होने से व्यक्ति अल्प मात्रा में भोजन करता है, जिससे आहार रस या 'रस' धातु का निर्माण भी अल्प मात्रा में होता है। इस कारण आगे बनने वाले अन्य ... «Webdunia Hindi, Jul 15»

REFERENCE
« EDUCALINGO. जठराग्नि [online]. Available <https://educalingo.com/en/dic-hi/jatharagni>. Apr 2020 ».
hi
Hindi dictionary
Discover all that is hidden in the words on