Educalingo cookies are used to personalize ads and get web traffic statistics. We also share information about the use of the site with our social media, advertising and analytics partners.
Got it
Search

Meaning of "पितृकर्म" in the Hindi dictionary

Dictionary
DICTIONARY
section

PRONUNCIATION OF पितृकर्म IN HINDI

पितृकर्म  [pitrkarma] play
facebooktwitterpinterestwhatsapp

WHAT DOES पितृकर्म MEAN IN HINDI?

Click to see the original definition of «पितृकर्म» in the Hindi dictionary.
Click to see the automatic translation of the definition in English.

Definition of पितृकर्म in the Hindi dictionary

Patrakar noun pund [no patrakaramana] The purpose of the actions of the ancestors Should be done from Shradb tarpan etc. karma पितृकर्म संज्ञा पुं० [सं० पितृकर्मन्] वह कर्म जो पितरों के उद्देश्य से किया जाय । श्राद्ब तर्पण आदि कर्म ।

Click to see the original definition of «पितृकर्म» in the Hindi dictionary.
Click to see the automatic translation of the definition in English.

HINDI WORDS THAT RHYME WITH पितृकर्म


HINDI WORDS THAT BEGIN LIKE पितृकर्म

पितृ
पितृऋण
पितृक
पितृकल्प
पितृकानन
पितृकार्य
पितृकुल
पितृकुल्या
पितृकृत्य
पितृक्रिया
पितृगण
पितृगणा
पितृगाथा
पितृगामी
पितृगीता
पितृगृह
पितृग्रह
पितृघात
पितृघाती
पितृघ्न

HINDI WORDS THAT END LIKE पितृकर्म

उदककर्म
उपकर्म
उपाकर्म
कर्म
कलिकर्म
कविकर्म
काम्यकर्म
कुकर्म
कूटकर्म
कृषिकर्म
कृष्णकर्म
केशकर्म
क्षौरकर्म
खटकर्म
गुणकर्म
गृहकर्म
गृह्यकर्म
ग्राम्यकर्म
चतुर्थिकर्म
चारकर्म

Synonyms and antonyms of पितृकर्म in the Hindi dictionary of synonyms

SYNONYMS

Translation of «पितृकर्म» into 25 languages

TRANSLATOR
online translator

TRANSLATION OF पितृकर्म

Find out the translation of पितृकर्म to 25 languages with our Hindi multilingual translator.
The translations of पितृकर्म from Hindi to other languages presented in this section have been obtained through automatic statistical translation; where the essential translation unit is the word «पितृकर्म» in Hindi.

Translator Hindi - Chinese

Pitrikarm
1,325 millions of speakers

Translator Hindi - Spanish

Pitrikarm
570 millions of speakers

Translator Hindi - English

Pitrikarm
510 millions of speakers

Hindi

पितृकर्म
380 millions of speakers
ar

Translator Hindi - Arabic

Pitrikarm
280 millions of speakers

Translator Hindi - Russian

Pitrikarm
278 millions of speakers

Translator Hindi - Portuguese

Pitrikarm
270 millions of speakers

Translator Hindi - Bengali

Pitrikarm
260 millions of speakers

Translator Hindi - French

Pitrikarm
220 millions of speakers

Translator Hindi - Malay

Pitrikarm
190 millions of speakers

Translator Hindi - German

Pitrikarm
180 millions of speakers

Translator Hindi - Japanese

Pitrikarm
130 millions of speakers

Translator Hindi - Korean

Pitrikarm
85 millions of speakers

Translator Hindi - Javanese

Pitrikarm
85 millions of speakers
vi

Translator Hindi - Vietnamese

Pitrikarm
80 millions of speakers

Translator Hindi - Tamil

Pitrikarm
75 millions of speakers

Translator Hindi - Marathi

Pitrikarm
75 millions of speakers

Translator Hindi - Turkish

Pitrikarm
70 millions of speakers

Translator Hindi - Italian

Pitrikarm
65 millions of speakers

Translator Hindi - Polish

Pitrikarm
50 millions of speakers

Translator Hindi - Ukrainian

Pitrikarm
40 millions of speakers

Translator Hindi - Romanian

Pitrikarm
30 millions of speakers
el

Translator Hindi - Greek

Pitrikarm
15 millions of speakers
af

Translator Hindi - Afrikaans

Pitrikarm
14 millions of speakers
sv

Translator Hindi - Swedish

Pitrikarm
10 millions of speakers
no

Translator Hindi - Norwegian

Pitrikarm
5 millions of speakers

Trends of use of पितृकर्म

TRENDS

TENDENCIES OF USE OF THE TERM «पितृकर्म»

0
100%
The map shown above gives the frequency of use of the term «पितृकर्म» in the different countries.

Examples of use in the Hindi literature, quotes and news about पितृकर्म

EXAMPLES

10 HINDI BOOKS RELATING TO «पितृकर्म»

Discover the use of पितृकर्म in the following bibliographical selection. Books relating to पितृकर्म and brief extracts from same to provide context of its use in Hindi literature.
1
Hindu Dharam Ki Riddle - Page 47
वैदिक परम्परा थी कि पात:काल के समय हैव-कर्म क्रिया जाए और अपराध के समय पितृ कर्म । अरे चलकर अपलक पितृ-तर्पण की चाल चल पडी और यह सुबह के समय किया जाने लगा, क्योंकि सुबह के समय ...
Dr. Baba Saheb Ambedkar, 2005
2
Dharma sindhuḥ: bhāṣānuvādasahita
शेष रहे सब कर्म संबुद्धिविभक्तिके अंतमें यथायोग्य ( इज ते है एकवचनति अथवा ' ईद वो हैं बहुबचना-त इस प्रकार योजना करके कर्म करना साय होके देवकर्म करना और अपसव्य होके पितृकर्म करना ...
Kāśīnātha Upādhyāya, ‎Ravidatta Śāstrī, 1994
3
Vedanuvacana
धी-यह रासायनिक कर्म भी समष्टि-चप से दा प्रकार का है, या तो देव-कर्म है या पितृ-कर्म । देब-कर्म में तो उन मुख्य होती है और पितृ-कर्म में माम । देव-कर्म में अनि को मुख' समझ कर उसमें ...
Naginasimha Vedi, 1950
4
AJAYA - RISE OF KALI (Book 2): - Book 2
Mandana was angry at the rude intrusion and asked the Acharya whether he was not aware, as a Brahmin, that it was inauspicious to come to another Brahmin's home uninvited when Pitru Karma was being done? In reply, Adi Shankara ...
Anand Neelakantan, 2015
5
Hindu Traditions and Beliefs - Page 48
Why do Hindus turn southwards while performing 'Pitra-karma' (offerings to the dead)? A. In the Vedas the location of Pitralok (the abode of the dead) is assumed to be in an orbit above the moon in south. Accordingly, the performance of ...
Bhojraj Dwivedi, 2002
6
Mūla Samskr̥ta uddharaṇa: Je. Mūira kr̥ta 'Orijenala ... - Volume 3
... यह, और समरूप विष्णु सूर्य के भीतर निवास करते है : प्रत्येक मास में जो जो रत ऋग्वेद में देव-कर्म, यजुर्वेद में मनु-य-कर्म, तथा सामवेद में पितृ-कर्म करने की विधियाँ प्राय: कहीं गयी है 1 ...
John Muir, ‎Rāmakumāra Rāya, 1964
7
Satyārthaprakāśa kavitāmr̥ta: Satyārtha Prakāśa kā ...
जहाँ लानी की गरिमा सुनिये, पितृ कर्म संज्ञा वहॉ गुनिये । अश्वमेध की होय समापति, इनकं1 चुने तो भागे आपति । तनिक बिचारे अपने मन में, व्यास मुनि जब नहीं थे जनमें । पितृ कर्म भी कौन ...
Swami Dayananda Sarasvati, ‎Jayagopāla (Paṇḍita.), ‎Rāmagopāla Śāstrī, 2000
8
Viśva sāhitya meṃ pāpa - Volume 1 - Page 42
खान-पान के प्रसंग में ही कहा गया है कि देवकर्म और पितृकर्म में चिंतित ब्राह्मण निमन्त्रण स्वीकार करने के पश्चात किसी कारणवश भोजन न करे तो वह पाप करता है । हु मूर्खता ब्राह्मण के ...
Āśā Dvivedī, 2000
9
Pitr̥-pūjā: Ārya pūjā-paddhati meṃ udbhava aura vikāsa
... के कृष्णपक्ष में यदि सूर्य कन्या-राशि में हो तो वह पितृकर्म के लिए बल ही उत्तम माना गया है है यदि उस समय सूर्य कन्याराशि में न भी हो तो भी अयन क, कृष्णपक्ष पितृकर्म के लिए अचल है ...
Kailāśacandra Vidyālaṅkāra, 1976
10
Rāmāyaṇamīmāṃsā
गरुड-पुराण ( अध्याय १४३ ) के अनुसार राम अयोध्या लौटने पर पितृकर्म के लिए गयाशिर ( गया ) जाते है । प्रतिमानाटक में भी इसका उल्लेख है । शिवपुराण ( ज्ञानखण्ड अध्याय ३० ) के अनुसार राम ...
Hariharānandasarasvatī (Swami.), 2001

10 NEWS ITEMS WHICH INCLUDE THE TERM «पितृकर्म»

Find out what the national and international press are talking about and how the term पितृकर्म is used in the context of the following news items.
1
पंचांगः बुध करेगा वृश्चिक राशि में प्रवेश, ये शुभ …
पितृकर्म, काष्ठकर्म व यात्रा वर्जित हैं। सप्तमी तिथि में विवाहादि समस्त मांगलिक कार्य, नृत्य-गीत-संगीत, वस्त्रालंकार, यात्रा व प्रवेशादि के कार्य शुभ होते हैं। षष्ठी तिथि में जन्मा जातक अहंकारी, विवादप्रिय, स्थिर, कामलोलुप, ... «Rajasthan Patrika, Nov 15»
2
पंचांगः आज इस मुहूर्त में करें लक्ष्मी का पूजन, घर …
अमावस्या में अग्निहोत्र महादान, पितृकर्म, स्नान, पुण्य व यज्ञादि कार्य करने चाहिए। इसी प्रकार शुक्ल प्रतिपदा में देवी कार्य और नवरात्रादि को छोड़कर शुभ कार्य वर्जित हैं। पर बुधवार को दीपावली का शुभ दिन है। जो आवश्यक शुभ कार्यारम्भ के ... «Rajasthan Patrika, Nov 15»
3
पंचांगः यह खास योग तीन बार देता है हानि या लाभ
... तिथि अन्तरात्रि 4.51 तक, तदुपरान्त सप्तमी भद्रा संज्ञक तिथि प्रारम्भ हो जाएगी। षष्ठी तिथि में विवाहादि समस्त शुभ व मांगलिक कार्य, गृहारम्भ, युद्ध कार्य और अलंकारादिक कार्य शुभ रहते हैं। पर पितृकर्म, काष्ठकर्म व यात्रा आदि वर्जित हैं। «Rajasthan Patrika, Oct 15»
4
क्षमा-याचना के साथ पितरों को विदाई
सुबह से ग्वारीघाट, जिलहरीघाट, तिलवाराघाट, भेड़ाघाट, दरोगाघाट, लम्हेटाघाट सहित अन्य नर्मदा तटों पर लोगों ने डुबकी लगाते हुए पितृकर्म किया और क्षमा याचना के साथ पुरखों को विदाई दी। वहीं सोमवती अमावस्या होने के कारण महिलाओं ने ... «Pradesh Today, Oct 15»
5
उचित समय पर किया पितृकर्म फलदायी
प्रदेश टुडे संवाददाता, जबलपुर : पितृ पक्ष के दौरान हर कोई अपने पूर्वजों की याद में एवं उनकी आत्मशांति के लिए पितृकर्म कर रहा है। ग्वारीघाट, भेड़ाघाट, लम्हेटाघाट, गोपालपुर, तिलवाराघाट, जिलहरीघाट सहित तमाम नर्मदा तटों पर पितरों का तर्पण एवं ... «Pradesh Today, Oct 15»
6
श्राद्ध पक्ष में ये हैं दुर्लभ योग, जो देंगे अनंत …
19 साल बाद श्राद्ध पक्ष में सूर्य व राहु की युति से गजछाया योग बन रहा है। इसके पहले 1996 में यह योग बना था। ऐसे योग में पितृकर्म (श्राद्ध, तर्पण, पिंडदान) करने से उसका अनंत गुना अधिक फल प्राप्त होता है। इस योग में पितरों के निमित्त श्राद्ध आदि ... «Webdunia Hindi, Oct 15»
7
सुख-संपत्ति देने वाला रहेगा पितृपक्ष
प्रदेश टुडे संवाददाता, जबलपुर : इस बार श्राद्धपक्ष अपने साथ कई विशेष योग-संयोग लेकर आ रहा है। इन योग-संयोग के बीच किया जाने वाला पितृकर्म कई गुना अधिक पुण्यकारक रहेगा। ज्योतिषियों की मानें तो सूर्य को पितरों का कारक ग्रह माना गया है। «Pradesh Today, Sep 15»
8
38 वर्षों बाद श्राद्धों में बन रहे हैं सर्वश्रेष्ठ योग
गज छाया योग में पितृकर्म श्राद्धकर्म, तर्पण कर्म, पिण्डकर्म व पितृकर्म करने से पंचकोटी फल प्राप्त होता है। गज छाया में पितृकर्म करने से पितृगण को शांति प्राप्त होती है। इस वर्ष 2015 में वर्षों पश्चात चंद्रग्रहण, सम्पूर्ण गज छाया योग के साथ ... «पंजाब केसरी, Sep 15»
9
आज शाम को बन रहे विशेष योग में राशिनुसार करें …
पितृकर्म अमावस्या हेतु शुक्रवार दिनांक 14.08.15 ही मान्य मनी जाएगी। शुक्रवार को पितृ पूजन व वृक्षारोपण का सर्वश्रेष्ठ महूर्त प्रातः 06 बजकर 07 मिनट से 07 बजकर 30 मिनट टाका रहेगा। इसके बाद दोपहर 12 बजकर 25 मिनट से दोपहर 1 बजे तक तथा शाम 3 बजकर 18 ... «पंजाब केसरी, Aug 15»
10
मंगलवार को है अमावस्या, जानिए कौनसे कार्य देंगे …
अमावस्या सायं 7.35 तक, तदन्तर प्रतिपदा शुक्ल पक्ष की प्रारम्भ हो जाएगी। अमावस्या व शुक्ल प्रतिपदा दोनों ही तिथियों में शुभ व मांगलिक कार्य वर्जित हैं। अमावस्या तिथि में स्नान, दान, पुण्य, पितृकर्म, अग्निहोत्र व यज्ञादि कार्य कथित हैं। «Rajasthan Patrika, Jun 15»

REFERENCE
« EDUCALINGO. पितृकर्म [online]. Available <https://educalingo.com/en/dic-hi/pitrkarma>. Nov 2019 ».
hi
Hindi dictionary
Discover all that is hidden in the words on